विधायक संजीव सरदार ने बार-बार किया सोशल डिस्टेंस का उल्लंघन

Share this:

कविकुमारजमशेदपुर, 30 जून : झारखंड मुक्ति मोर्चा के पोटका विधानसभा क्षेत्र के विधायक संजीव सरदार सोशल डिस्टेंसिंग तोड़ने में सबसे आगे बताये जाते हैं। जबकि उनके मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आदेश जारी किया है कि दो लोगों के बीच 6 फुट की दूरी होना जरूरी है। जिससे सरकार कोरोनावायरस को हरा सके। मालूम हो संजीव सरदार पहली बार 2019 में विधायक बने हैं।

29 जून को पोटका के विधायक संजीव सरदार झारखंड के शिक्षा मंत्री जगन्नाथ महतो से मिलने उनके रांची स्थित कार्यालय में गए। पोटका, जमशेदपुर तथा डुमरिया प्रखंड के बीआरपी और सीआरपी के प्रतिनिधि स्थायीकरण की मांग लेकर उनके साथ गए थे। इस दौरान संजीव सरदार और उनके साथियों ने सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन किया।

24 जून को संजीव सरदार भागाबांधी गांव के समीप सड़क पर बड़े-बड़े गड्ढे देखने गए। यह सड़क कोवाली मुख्य सड़क से डुमरिया मुख्य सड़क को जोड़ती है। सड़क के गड्ढों को देखने के दौरान उन्होंने सोशल डिस्टेंस का घोर उल्लंघन किया।

15 जून को पोटका प्रखंड के जामदा पंचायत स्थित देवली गांव की मुख्य सड़क पर एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत बिजली के तार से सट जाने के चलते हो गई। संजीव सरदार दलबल सहित घटनास्थल पर पहुंचे तथा बिजली विभाग के अधिकारियों से बैठक की। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन किया गया। विधायक के पीछे ग्रामीण सट-सट कर खड़े थे। विधायक ने इस पर गौर नहीं किया।

16 जून को विधायक संजीव सरदार ने जामदा पंचायत के देवली गांव में झारखंड सरकार की योजना वीर शहीद पोटो हो खेल मैदान समतलीकरण एवं बिरसा हरित ग्राम विकास योजना के तहत बागवानी का शिलान्यास किया। विधायक संजीव सरदार के साथी तथा प्रखंड के पदाधिकारियों ने इस मौके पर सोशल डिस्टेंसिंग का घोर उल्लंघन किया।

16 जून को ही पोटका गांव के परियोजना बालिका उच्च विद्यालय में बने क्वॉरेंटाइन सेंटर में संजीव सरदार गए। वहां उन्होंने क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे सैकड़ों लोगों के बीच होम्योपैथिक दवा का वितरण किया। दवा लेने के लिए क्वॉरेंटाइन सेंटर में रह रहे मज़दूरों ने भीड़ लगा दी। इससे सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ गईं। मालूम हो क्वारंटाइन सेंटर में कोरोना के एक दो पॉजिटिव केस भी रहे होंगे, भीड़ लगाने के चलते बाकी नेगेटिव लोगों को भी खतरा पैदा होना संभव है।

14 जून को उत्तर करनडीह पंचायत के लोग जमीन पर अपना हक साबित करने के लिए खजाना काटने का अनुरोध करने संजीव सरदार के घर पहुंचे और सोशल डिस्टेंसिंग का जमकर उल्लंघन किया। विधायक भी खामोश रहे।

7 जून को झारखंड युवा मोर्चा के कदमा कार्यालय में संजीव सरदार को सम्मानित किया गया क्योंकि संजीव सरदार को गैर सरकारी संकल्प समिति एवं सदाचार समिति का सदस्य मनोनीत किया गया था। इस दौरान मोर्चा के लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!