सलमान खान के अत्याचारों से मरा ईमानदार पुलिस मैन

Share this:

रविन्द्र पाटिल नाम का एक ऐसा गवाह था जिसने सलमान खान को गाड़ी चलाते और गरीबों पर गाड़ी चढ़ाते देखा था। वो एक कांस्टेबल था। उसने कभी अपना बयान नहीं बदला। बेचारे को बयान बदलने के लिए करोड़ों रुपये का लालच दिया गया। पुलिस और नेताओं का दबाव बनाया गया, नौकरी से हटा दिया गया और जेल में भी रखा गया। मगर इस ईमानदार और खुद्दार आदमी ने कभी अपना बयान नहीं बदला। बेचारे को अपनी जान बचाने के लिए अपने घर परिवार को छोड़कर मुम्बई से भागना पड़ा। उसे चोरी छुपे घरवालों से मिलना पड़ता था। बताते हैं कि सलमान एक ऐसा नाम है जिसके फैन और लिंक हर कहीं हैं। अंडरवर्ड से ले कर पुलिस विभाग तक ..।रविन्द्र को मौत की हद तक प्रताड़ना दी गयी थी। जिसके चलते उसकी जिन्दगी तबाह हो गयी। इन तमाम घटनाओं के बाद भी वह अपने बयान पर अटल रहा। रविन्द्र पाटिल डिप्रेशन का शिकार हो गया। वह 4 साल बाद जब मुम्बई लौटा तो उसको भीख माँगने पर मजबूर होना पड़ा। उसके बाद वह बीमार पड़ गया और एक दिन सरकारी अस्पताल में इलाज के दौरान उस नौजवान की मौत हो गयी। मगर इसने कभी अपना बयान नहीं बदला। सलमान की वजह से उस ईमानदार पुलिस वाले की जिंदगी खराब हो गयी और उसकी मौत हो गयी। क्या सलमान को, उसके परिवार वालों को, मीडिया को, सलमान के फैंस को या देशवासियों को रविन्द्र पाटिल का ज़रा सा भी ग़म है?हद तो यह है कि सलमान की खांसी तक को दिखाने वाली मीडिया के एक खास वर्ग  तो दूर कुछ खास लोगों को छोड़ कर किसी ने ये भी पता नहीं किया कि रविन्द्र पाटिल के घरवालों पर क्या बीती? वो कितना रोये थे?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!