पंचायत समिति सदस्य और उनके भगना पर अपहरण का झूठा एफआईआर दर्ज

Share this:

जमशेदपुर, 6 जून : बागबेड़ा पुलिस ने पंचायत समिति सदस्य जितेंद्र यादव और उनके भगना विकास यादव पर 22 साल की एक युवती के अपहरण का झूठा एफआइआर दर्ज कर लिया है। इसका खुलासा तब हुआ जब आज अपहृत बताई गई युवती श्रीति शर्मा अपने पति विकास यादव के साथ 164 सीआरपीसी के तहत बयान देने जमशेदपुर कोर्ट पहुंचीं। किसी कारणवश कोर्ट में आज उनका बयान नहीं हो पाया। उन्होंने प्रेस से कहा कि उनका अपहरण नहीं किया गया। वे खुद हरहरगुट्टू निवासी विकास यादव के घर गईं और उन लोगों ने मंदिर में शादी कर ली। वे बालिग हैं और उनकी उम्र 23 वर्ष है, अतः वे अपने मन से शादी करने के लिए स्वतंत्र हैं। उनके पिता अशोक शर्मा ने बागबेड़ा थाना में विकास यादव और उनके मामा जितेंद्र यादव के खिलाफ गलत प्राथमिकी दर्ज कराई है। उनके पिता अशोक शर्मा गाढ़ाबासा हनुमान मंदिर के पास मकान नंबर 84 के निवासी हैं। इस संबंध में श्रीति शर्मा ने एक पत्र पूर्वी सिंहभूम के सीनियर एसपी और कोल्हान के डीआईजी को भी दिया है। पत्र में उन्होंने लिखा है कि वे बिना किसी दबाव के अपनी इच्छा से प्रेम विवाह कर अपने पति विकास यादव के साथ रह रही हैं। उनका विवाह हिंदू धर्म की रीति रिवाज के अनुसार 3 मार्च 2019 को मनोकामना मंदिर में संपन्न हुआ। वे 6 मार्च 2020 को विवाह की रजिस्ट्री कराने के लिए आवेदन कर चुकी हैं। लॉक डाउन के चलते उन्हें विवाह का सर्टिफिकेट नहीं मिल पाया है।

पत्र में श्रीति ने लिखा ही कि उनके माता-पिता एवं परिवार के अन्य सदस्य उनके विवाह के खिलाफ हैं। इसलिए उनके पिता ने बागबेड़ा थाना में उनके पति विकास कुमार यादव एवं उनके परिवार के अन्य सदस्यों के विरुद्ध मेरे अपहरण की शिकायत दर्ज कराई है, जो सही नहीं है। पत्र में श्रीति शर्मा ने उनके पति और मामा के विरुद्ध दर्ज कराए गए मुकदमे को निरस्त करने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!