कालाबाजारी का वीडियो रिकॉर्डिंग देने पर भी राशन दुकानदार पर कार्यवाही नहीं

Share this:

जमशेदपुर, 21 जुलाई : पंचायत इलाकों में सरकारी चावल की कालाबाजारी का धंधा जोरों पर चल रहा है। कोरोना का में सबसे ज्यादा कमाई करने वाला राशनिंग विभाग ही बताया जाता है।इसका एक सबूत पश्चिम कीताडीह पंचायत में देखने को मिला। यहां कालाबाजारी करने वाले राशन दुकानदार और यहां के मार्केटिंग अफसर कृष्ण कुमार सिंह की मिलीभगत के कारण चावल की कालाबाजारी करते हुए रंगे हाथों पकड़े जाने के बाद भी राशन दुकानदार राजेश यादव पर 5 दिन बीतने के बाद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। जबकि गरीबों के हक का 100 किलो चावल टेंपो में लाद कर कालाबाजारी करने के लिए दुकान से चल दिया था। रास्ते में लोगों ने टेंपो और चावल को पकड़ा तथा मार्केटिंग अफसर के सुपुर्द किया। टेंपो ड्राइवर ने सबके सामने कबूल किया कि यह चावल राशन दुकानदार राजेश यादव का है तथा वे प्रतिदिन उसे 100 किलो चावल बेचने के लिए देते हैं। टेंपो चालक का यह बयान पंचायत समिति सदस्य जितेंद्र यादव व अन्य पंचायत समिति सदस्यों के सामने वीडियो रिकॉर्ड किया गया। इसके बाद भी मार्केटिंग अफसर ने टेंपो चालक को छोड़ दिया तथा राशन दुकानदार पर कोई कार्यवाही नहीं की। आज पंचायत प्रमुख रविंद्र नाथ सिंह, पंचायत समिति सदस्य जितेंद्र यादव, संजय त्रिपाठी, बबीता करवा और आशा जायसवाल विशिष्ट अनुभाजन पदाधिकारी से मिले तथा उन्हें राशन दुकानदार सुनील यादव के दुकान से टेंपो में चावल लाते हुए तथा बेचने के लिए ले जाते हुए पूरे घटनाक्रम का वीडियो रिकॉर्डिंग दिखाया। एसओआर को मार्केटिंग अफसर की मिलीभगत की बात बताई। विशिष्ट भजन पदाधिकारी ने तत्काल मार्केटिंग अफसर को बुलाया और सबके सामने उन्हें डांस पिलाई। उनको फौरन कालाबाजारी करने वाले राशन दुकान पर कानूनी कार्यवाही करने का आदेश दिया। पूरी घटना के बारे में जितेंद्र यादव ने बताया कि 16 जुलाई को पश्चिम कीताडीह पंचायत के राशन दुकानदार राजेश यादव सरकारी चावल टेंपो में लादकर बेचने ले जा रहे थे, तभी पंचायत के लोगों ने रंगे हाथोंं पकड़ लिया। स्थानीय लोगों ने कुछ दिनों से राशन दुकानदार राजेश यादव के ऊपर नजर रखी थी। टेम्पो पकड़ने के बाद स्थानीय पंचायत समिति सदस्य जितेंद्र यादव को इसकी सूचना दूरभाष पर दी गई। जितेंद्र यादव ने आकर देखा तो टेंपो में चावल का बोरा रखा हुआ था। जितेंद्र यादव ने सभी पंचायत समिति सदस्य, एसओआर, एमओ बीडीओ को इसकी सूचना दी। एसओआर ने एमओ केके सिंह को भेजा। उन्होंने चावल जप्त कर लिया  परंतु टेंपो और टेंपो चालक को छोड़ दिया। उन्होंने अब तक राशन दुकानदार पर कोई कार्यवाही नहीं की। इस संबंध में शिकायतकर्ता ने एक पत्र  उपायुक्त पूर्वी सिंहभूम और राज्य के खाद्य आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री को भी भेजा है।

ReplyForward

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!