बिरसानगर की जमीन के लिए हत्या के 2 दिनों बाद अपहरण की धमकी

Share this:

जमशेदपुर, 24 जुलाई : बिरसा नगर में सरकारी और आदिवासियों की जमीन पर अवैध कब्जा कर उन्हें बेचने वालों ने 3 दिन पहले युवा वकील की लाश गिरा दी। पुलिस ने 24 घंटे के अंदर हत्या कराने वाले जमीन विक्रेता को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद भी सरकारी जमीन और आदिवासियों की जमीन पर कब्जा करके बैठे लोगों के दुस्साहस में कोई कमी नहीं आई।कल 23 जुलाई को बागुन नगर निवासी जय नारायण मुंडा ने बिरसा नगर में अवैध ढंग से बनाए गए बड़े-बड़े फ्लैटों और मकानों की जांच संबंधी पत्र पूर्वी सिंहभूम के उपायुक्त सूरज कुमार को दिया और शाम को ही जय नारायण मुंडा को बिल्डर संजय पलसानिया में पीटने और घर से उठा लेना की धमकी मोबाइल पर दी। 
जय नारायण मुंडा ने मोबाइल का साउंड रिकॉर्डिंग सहित सिदगोड़ा थाना में लिखित शिकायत कर जानमाल की रक्षा की गुहार की। उन्होंने लिखित शिकायत में संजय पलसानिया और उसके भाई उमेश पलसानिया का नाम और उनका मोबाइल नंबर भी दिया।
याद रहे जमीन विक्रेता द्वारा हत्या के शिकार वकील प्रकाश यादव ने भी बिरसा नगर थाना को जमीन विक्रेताओं से जान माल की धमकी दिए जाने की शिकायत थाना में दर्ज कराई थी। पर पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की। नतीजतन वकील की हत्या हो गई। क्या जयनारायण मुंडा के साथ भी यही सब कुछ दोहराया जाएगा, क्योंकि सिदगोड़ा थाना ने अभी तक अपहरण की धमकी देने वाले पलसानिया बंधुओं पर कोई कार्यवाही नहीं की।
जयनारायण मुंडा ने उपायुक्त को 23 जुलाई को दिए गए ज्ञापन में लिखा था कि भू- माफिया द्वारा भूमि अतिक्रमण को लेकर वापसी विवाद होने के कारण बिरसानगर जोन न०-1 में प्रकाश यादव नामक युवक की हत्या हो गई। फिर भी बिरसानगर में भूमि का अतिक्रमण रुका नहीं है। इससे पहले भी मुख्यमंत्री रघुवर दास के कार्यकाल में उनकी मदद से भूमि अतिक्रमण किया गया। बिरसानगर जोन न०-2 में संजय पलसानिया नामक बिल्डर रहते हैं। उस बिल्डर के द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास की मदद से, उनके मुख्यमंत्री काल में तथा उससे पूर्व 25 वर्षों में बिरसानगर अनाबाद बिहार सरकार की बहुत सारी जमीन गलत तरीके से खरीद बिक्री की गई। इस कार्य में पलसानिया की मदद रघुवर दास के विधायक प्रतिनिधि पवन अग्रवाल, उनके छोटे भाई मूलचंद साहू तथा अन्य लोगों ने की।पत्र में जय नारायण मुंडा ने उपायुक्त सूरज कुमार को लिखा है कि जब वे धालभूम के अनुमंडलाधिकारी थे तब उनके कार्यकाल में बिरसानगर जोन न०- 2 की बिल्डिंग पर काम करने से रोक लगा दी गई थी, लेकिन उनके तबादले के बाद रोक के बावजूद निर्माण कार्य पूरा कर लिया गया। बिल्डर पलसानिया का प्लैट बिरसानगर जोन न०- 4, 2, 6 व अन्य स्थानों में स्थित है।पत्र में उपायुक्त से आग्रह किया गया है कि वे सारे फ्लैटों की भूमि की जाँच करवाएं तथा उसे अतिक्रमण मुक्त कराया जाए। सरकारी जमीन का अवैध अतिक्रमण करने के कारण संजय पलसानिया तथा उनके सहयोगियों पर कानूनी कारवाई भी की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!