रांची में इस माह 4 गुना बढ़े मरीज, 8 दिनों में भर जाएंगे सारे बेड

Share this:

जमशेदपुर, 12 जुलाई : कोरोना के संदर्भ में झारखंड राज्य की राजधानी  की हालत चिंताजनक है। सूत्रों के मुताबिक रांची में कोरोना विकराल रूप ले रहा है। अप्रैल में शहरवासियों की सतर्कता के कारण मई में संक्रमण थोड़ा थमा था। पर अब लोगों की लापरवाही से यह फिर बढ़ रहा है। डॉक्टरों के अनुसार, अब इस पर काबू पाने के लिए एक बार फिर से लॉकडॉउन जरूरी हो गया है। पिछले तीन माह की बात करें तो इस दौरान किसी भी एक महीने में उतने संक्रमित नहीं मिले, जितने जुलाई के शुरुआती 10 दिनों में ही मिल गए।एक जुलाई से लेकर 10 जुलाई तक रांची में 120 कोराेना पॉजिटिव मिले। यानी हर दिन 12 मरीज, जबकि अप्रैल में 82 मरीज, मई में 49 मरीज और जून में 95 मरीज ही पॉजिटिव मिले थे। इस लिहाज से जून की तुलना में जुलाई में चार गुना काेरोना पॉजिटिव मरीज बढ़ गए हैं। यदि दर ऐसी ही बढ़ती रही तो अगले 8 दिनों में रांची के कोविड अस्पतालों के बेड नहीं मिलेंगे।
झारखंड की राजधानी रांची में लापरवाही या अनजाने में लोग खुद या दूसरे को संक्रमित कर रहे हैं। इससे स्थिति बिगड़ती जा रही है। रिम्स के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ  देवेश कुमार के अनुसार लॉकडॉउन से ही ऐसी स्थिति पर बहुत हद तक काबू पाया जा सकता है।रांची के सिविल सर्जन डॉ विजय बिहारी प्रसाद ने कहा है कि 10 दिनों में सैकड़ों मरीज मिलने से लोगों के मन में फिर से कोरोना का डर बैठ गया है। स्थिति बेकाबू न हो, इसके लिए संक्रमितों की कांटैक्ट ट्रेसिंग शुरू कर दी गई। हालत नहीं सुधरी तो राज्य सरकार की अनुमति पर लॉकडॉउन लगाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!