टाटा स्टील के गंदे नाले का पानी बस्तियों में भरा, नाले का बदबूदार टीचर सड़कों पर

Share this:

जमशेदपुर, 26 अगस्त : बीती रात हुई बरसात ने टाटा स्टील के जुस्को की नागरिक सुविधाओं की पोल खोल दी। इस साल बरसात के पहले जुस्को ने टाटा स्टील से निकलने वाले नालों की सफाई नहीं की। जिसके चलते नालों की गहराई कम हो गई और वे कल रात हुई बरसात का पानी झेल नहीं पाए। इसके चलते कीचड़ कादो से भरा नालों का पानी बस्तियों में घुस आया तथा आज सुबह पानी के लौट जाने के बाद कीचड़ कादो की बदबू से नाले के आसपास की बच्चियां भर गईंं।

ऐसा टाटा स्टील के पूर्वी हिस्से में न्यू कालीमाटी रोड और रिफ्यूजी कॉलोनी से होकर स्वर्णरेखा नदी में गिरने वाले नाले में हुआ। इसी नाले का पानी रात के वक्त जमशेदपुर की सबसे व्यस्त सड़क न्यू कालीमाटी रोड में हावड़ा पुल के नीचे भर गया। जिससे घंटों आवागमन ठप रहा। सुबह पानी के निकल जाने के बाद हावड़ा पुल के नीचे मुख्य सड़क पर 4-5 इंच मोटी मिट्टी जम गई। जिससे कई दोपहिया वाहन फंसकर दुर्घटना का शिकार हुए।

सुबह 9 बजे के बाद जुस्को की टीम आई और सड़क पर जमी मिट्टी हटा। ऐसा ही आरडीटाटा गोल चक्कर के पास हुआ। टाटा स्टील के इस नाले का पानी हेम सिंह बागान एरिया में भी घुस गया। जिससे यहां की पूरी सड़क कीचड़ से भर गई। इसे साफ करने जुस्को का कोई कर्मचारी नहीं आया। कीचड़ के चलते पूरी बस्ती बदबू से भरी रही।

हेम सिंह बागान की मुख्य सड़क पर जमा नाले का कीचड़

टाटा स्टील के नाले का पानी सुबह वापस जाकर बस्ती की नालियों को कीचड़ से भर गया। इस नाली की सफाई कराने का अनुरोध जुस्को से किया गया तो  यहां के अधिकारियों ने साफ कहा कि नाली और सड़क की सफाई जमशेदपुर नोटिफाइड एरिया कमेटी करेगी। क्योंकि यह जुस्को का नहीं बल्कि जमशेदपुर नोटिफाइड एरिया कमेटी का इलाका है। मसलन बस्तियों को गंदा करने का काम टाटा स्टील और जुस्को को है परंतु उसकी सफाई करने की जिम्मेदारी जमशेदपुर नोटिफाइड एरिया कमिटी की है।

जमशेदपुर की व्यस्त सड़क न्यू कालीमाटी रोड ओवर ब्रिज के नीचे जमीन मिट्टी

यह है विश्व प्रसिद्ध टाटा स्टील की पूर्णतया सब्सिडियरी कंपनी जुस्को का हाल। सूत्रों के मुताबिक टाटा स्टील के इस नाले ने स्लैग रोड के किनारे बसी बस्तियों में घंटों कहर बरपाया। नाले का पानी बस्ती के पचासों घरों में घुस गया और गरीब निवासियों के लाखों रुपए के सामान बर्बाद हो गए। कई बार लोगों ने टाटा स्टील से मांग की है कि इस नाले को भी अपने गरम नाले के समान पक्का बना कर ढक्कन से ढक दे। जिससे बस्ती के हजारों लोग बरसात के दिनों में बर्बादी से बच सकें। परंतु टाटा स्टील इस मांग पर ध्यान नहीं दे रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!