कदमा में डकैती की, सीतारामडेरा लूट में पब्लिक ने अपराधी पकड़ा

Share this:

जमशेदपुर, 28 सितंबर : आज शहर में कदमा और सीतारामडेरा थाना इलाके में डकैती और लूट की कोशिश के 2 मामले सामने आए हैं। कदमा में डकैत दिनदहाड़े पिस्तौल की नोक पर गृहस्वामी को लूटने में सफल हो गए। परंतु भालूबसा में पब्लिक ने एक लुटेरे को पकड़ लिया और पुलिस के हवाले किया। अगर यहां की पब्लिक जागरुक नहीं होती तो यहां भी लूट की घटना घट सकती थी।

पहली घटना सीतारामडेरा थाना इलाके के भालूबासा रोड नंबर 5, फ्लैट नंबर 137 की है। यहां आज दो युवक ट्रांसपोर्ट अशोक शर्मा उर्फ पप्पू शर्मा के घर में घुसे और उनकी बेटी, बहू और पत्नी को चाकू के बल पर अपने कब्जे में ले लिया। उन सबको रस्सी से बांध दिया। इस दौरान घर की नौकरानी ने बाहर से कॉल बेल बजाया। दरवाजा खुलने के बाद नौकरानी की नजर बंधे हुए लोगों पर गई तो उसने घर में घुसने के बदले में बाहर निकल कर चिल्लाना शुरू कर दिया।

तब तक मौका का फायदा उठाकर रांची निवासी लुटेरा राजू भागने में सफल हो गया। लोगों ने जहानाबाद निवासी सोनू कुमार राम को पकड़ कर उसकी पिटाई की। बताते हैं कि सोनू कुमार राम 5 सालों तक ट्रांसपोर्टर पप्पू शर्मा कि ट्रक का ड्राइवर था। वह अच्छी तरह जानता था कि पप्पू शर्मा की कमाई लाखों-करोड़ों में है। इसी कारण नौकरी छोड़ने के बाद उसने यहां लूट की योजना बनाई। सोनू कुमार राम अच्छी तरह जानता था कि दोपहर 12 बजे के वक्त घर में पप्पू शर्मा और उनका इकलौता बेटा नहीं रहता। इसलिए उसने लूट का यही समय चुना और घर की महिलाओं को आसानी से रस्सी से बांध दिया।

पप्पू शर्मा ने बताया कि लुटेरों के बैग में 10 बम थे, परंतु पुलिस ने बताया कि यह बात गलत है। लुटेरों के पास बम नहीं थे। गिरफ्तार लुटेरे के पास से चाकू बरामद किया गया। गिरफ्तार सोनू कुमार राम ने पुलिस को बताया कि उनके पास इन दिनों पैसे की कमी थी इसलिए वह पप्पू शर्मा के घर में घुसा था।

कदमा थाना अंतर्गत उलियान के सोना पथ निवासी राशन के दुकानदार मानिक दास के घर में आज पांच डकैत दिनदहाड़े घुस गए। उन्होंने घर के बाहर से चावल खरीदने की बात कही। नियम से चावल सिर्फ राशन कार्डधारियों को दिया जाता है परंतु घर से चावल बेचने के लिए डीलर ने दरवाजा खोल दिया। इसका फायदा उठाकर पांच डकैत घर में घुस गए। उनमें से दो के हाथों में पिस्तौल थी। पिस्तौल की नोक पर घर के सभी सदस्यों को एक कमरे में बंद कर दिया गया।

इसमें डीलर के पुत्र, पुत्री और पिता माता भी शामिल थे। डकैतों ने डीलर की पत्नी को पिस्तौल दिखाकर उसके सारे गहने उतरवा लिए और अलमारी से गहने और कैश लेकर चले गए। चुराए गए जेवर की कीमत ₹10 लाख और कैश ₹1लाख बताए जाते हैं। जाते-जाते डकैतों ने उन्हें धमकी दी कि अगर पुलिस को इस घटना की जानकारी देंगे तो उनके परिवार के एक सदस्य की हत्या कर दी जाएगी। डकैतों ने परिवार के लोगों के सभी मोबाइल छीन लिए। डकैतों ने बाहर से दरवाजा भी बंद कर दिया। डकैतों के जाने के आधे घंटे बाद खिड़की खोल कर घर के लोगों ने हल्ला किया, तब पड़ोसियों ने बाहर से दरवाजा खोलकर सबको बाहर निकाला।

ReplyForward

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!