टाटा स्टील का नया नियम फैला सकता है कोरोना

Share this:

कविकुमार

जमशेदपुर, 11 सितंबर : टाटा स्टील ने नया सर्कुलर जारी किया है। जिसके मुताबिक होम आइसोलेशन में रहने वाले एसिंप्टोमेटिक (गैर लक्षण वाले) कोरोना रोगी कर्मचारी और दूसरे राज्य से आए कर्मचारियों को जांच की सुविधा अब उनके घर पर नहीं दी जाएगी। ऐसे लोगों को अपनी जांच कराने टाटा मेन हॉस्पिटल के नर्सिंग स्कूल में बने जांच सेंटर में आना होगा। पहले के नियम के मुताबिक गैर लक्षण वाले कर्मचारी या उनके परिवार के सदस्यों को 28 दिनों के लिए होम आइसोलेशन कर दिया जाता था। सेकंड सैंपल लेने के लिए टाटा मेन हॉस्पिटल की मेडिकल टीम कर्मचारी के घर जाती थी। लेकिन नए सर्कुलर के अनुसार ऐसे कर्मचारी व उनके परिवार के सदस्यों को खुद टाटा मेन हॉस्पिटल आना होगा। टाटा

स्टील का नया नियम दिल्ली से आई कोरोना संबंधी केंद्रीय टीम की अनुशंसा के विपरीत बताया जाता है। जमशेदपुर में कोरोना संक्रमण से होने वाली अधिक मौत के कारण केंद्र सरकार ने यहां दिल्ली से केंद्रीय टीम को भेज कर बढ़ते हुए संक्रमण और मौत के बारे में जानकारी ली। केंद्रीय टीम ने अपने निष्कर्ष में यह भी कहा मौत की नींद सोने वाले वृद्ध और बीमार लोगों में कोरोना संक्रमण वैसे लोग फैला रहे हैं जो गैर लक्षण वाले मरीज हैं। ऐसे लोग घर के भी हो सकते हैं और घर आने वाले बाहरी व्यक्ति भी। वृद्ध एवं पुराने बीमार लोग घर से बाहर भी नहीं निकलते फिर भी गैर लक्षण वाले संक्रमित मरीज के चलते वे संक्रमित हो जाते हैं। ऐसे में गैर लक्षण वाले संक्रमित मरीजों को संक्रमण फैलाने से बचाने के लिए उनकी ज्यादा से ज्यादा जांच जरूरी है।

केंद्रीय टीम की राय में गैर लक्षण वाले संक्रमित व्यक्ति ज्यादा खतरनाक हैं, और टाटा स्टील ऐसे ही लोगों की जांच उनके घर में न कर उनको अस्पताल बुला रही है। ऐसे व्यक्ति अपने घर से अस्पताल जाने के रास्ते में कितने लोगों को संक्रमित करेंगे यह कहना कठिन है। गैर लक्षण वाले होने के चलते बस या टेंपो पर सवार होने पर टेंपरेचर नापने वाले मीटर में भी इनका रोग पकड़ा नहीं जा सकेगा। वे बस में सवार अन्य लोगों को संक्रमित करते हुए टाटा मेन हॉस्पिटल जांच कराने पहुंचेंगे। इसलिए टाटा स्टील को अपने नए नियम में परिवर्तन कर पुराने नियम को ही लागू रखना चाहिए। जिससे कोरोना संक्रमण फैलने से रुक सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!