मतदाताओं ने हमेशा होशियारी से मतदान किया

Share this:

अत्यंत थोड़े से अपवादों को छोड़े दें तो आजादी के बाद इस देश और प्रदेश के अधिकतर मतदाताओं ने हमेशा ही होशियारी से सही मतदान ही किया है।जनता तब भी सही थी जब उसने 1971 में इंदिरा गांधी को जिताया और 1977 में उन्हें हराया।बिहार के अधिकतर मतदाता तब भी सही थे जब उन्होंने 1991 और 1995 में लालू प्रसाद को जिताया। अधिकतर जनता तब भी सही थी जब उसने 2005 में लालू प्रसाद के दल को बिहार की सत्ता से बाहर कर दिया।

आज चाहे लोगबाग जो भी चुनावी अनुमान लगाएं, किंतु मेरा मानना है कि इस बार भी बिहार के अधिकतर मतदातागण सही चुनावी फैसला ही करेंगे। आम तौर पर ‘मौन’ आमलोग मतदान करने से पहले देश-प्रदेश का नफा-नुकसान अधिक देखते हैं। दूसरी ओर, अधिकतर मुखर लोग खुद का नफा-नुकसान अधिक देखते हैं।
—सुरेंद्र किशोर—

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!