अपने जीवन से ज्यादा प्यार किया दिनेश को

Share this:

जमशेदपुर, 29 नवंबर : 3 दिन पहले जमशेदपुर में एक बड़ा साहित्यिक समारोह हुआ। कोरोना काल में ऐसे बड़े साहित्यिक समारोह की कल्पना किसी ने नहीं की थी। पिछले 8 महीने से जमशेदपुर में साहित्यिक गतिविधि लगभग ठप थींं।

अधिकतर साहित्यकार 60 की उम्र पार कर चुके हैं। उनमें कोरोना संक्रमण लगनेे का खतरा ज्यादा है। प्रशासन भी अनुरोध करता है कि 60 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति घर से बाहर न निकलेंं। परंतु  26 नवंबर को शहर के लेखक, कहानीकार, कवि एवं पत्रकार दिनेश्वर प्रसाद सिंह दिनेश के अमृत महोत्सव  का आयोजन तुलसी भवन में हुआ तो साहित्यकारों ने अपने मन से  जीवन का मोह या यूं कहें कोरोना का डर बाहर निकाल दिया और बड़ी संख्या में अमृत महोत्सव आयोजन में शामिल हुए।

जाने-माने साहित्यकार एवं शिक्षाविद बाल मुकुंद पैनाली तो दिनेश जी के गले लग गए। पचासों साहित्यकारों ने उनके पांव छुए। दर्जनों सामूहिक फोटो खींचे गए। दिनेश्वर प्रसाद सिंह ‘दिनेश’ के प्रति लोगों के स्नेह का इससे बड़ा कोई उदाहरण नहीं हो सकता। अमृत महोत्सव आयोजन समिति द्वारा आयोजित एक भव्य समारोह में सुविख्यात कथाकार डाक्टर सी. भास्कर राव एवं सुविख्यात कवि डाक्टर संजय पंकज ने सम्मिलित रूप से जमशेदपुर के जाने-माने साहित्यकार दिनेश्वर प्रसाद सिंह ‘दिनेश’ को सम्मानित किया।

इस अवसर पर 754 पृष्ठों का एक अभिनन्दन ग्रंथ भी दिनेश जी पर निकाला गया है। सीतामढ़ी (बिहार) की चर्चित साहित्यिक पत्रिका ‘एक नई सुबह’ ने दिनेश जी के अमृत महोत्सव के अवसर पर एक विशेषांक भी निकाला। जिसकी प्रति पत्रिका के सम्पादक दशरथ प्रजापति ने उन्हें समर्पित किया। अभिनन्दन ग्रंथ एवं  पत्रिका का लोकार्पण भी इसी समारोह में हुआ। आयोजन समिति के सभी सदस्यों, समारोह में शामिल होने वाले प्रबुद्ध जनों एवं पत्रिका के सम्पादक दशरथ प्रजापति  के प्रति साहित्यकार दिनेश्वर प्रसाद सिंह ‘दिनेश’ ने आभार प्रकट किया है।

ReplyForward

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!