जमशेदपुर झारखंड का 5 वां धूम्रपान मुक्त शहर घोषित हुआ

Share this:

जमशेदपुर, 22 दिसंबर : तंबाकू नियंत्रण समन्वयक समिति की बैठक में जमशेदपुर को धूम्रपान मुक्त घोषित किया गया। उक्त समारोह में जमशेदपुर को झारखंड का 5वां धूम्रपान मुक्त शहर घोषित किया गया। मौके पर जिले के सभी वरीय पदाधिकारियों द्वारा धूम्रपान मुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किया गया तथा उपायुक्त द्वारा सम्पूर्ण जिले को धूम्रपान/तम्बाकू मुक्त बनाए रखने की अपील की गई।

पूर्वी सिंहभूम जिला के उपायुक्त सूरज कुमार ने इस अवसर पर कहा कि जमशेदपुर को धूम्रपान मुक्त शहर घोषित करते हुए उन्हें काफी प्रसन्नता हो रही है। इस कार्य के लिए उपायुक्त द्वारा जिला की आम जनता, शैक्षणिक संस्थानों, सहयोगी संस्था सीड्स, जिले के तमाम मीडियाकर्मी, जिला स्तरीय पदाधिकारी, अनुमंडल स्तरीय पदाधिकारी, प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी, मानगो, जुगसलाई और जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समितियों के विशेष/कार्यपालक पदाधिकारी, स्वास्थ्य विभाग के सभी पदाधिकारी, पुलिस विभाग के सभी पदाधिकारी सहित जिले के सभी नागरिकों को धन्यवाद एवं बधाई दी गई।

उपायुक्त सूरज कुमार ने समस्त शहर वासियों से अपील करते हुए कहा है कि धूम्रपान मुक्त शहर के बाद अब हमलोगों को अपने जिले को तम्बाकू मुक्त जिला बनाने की मुहिम शुरू करनी है, ताकि हमारी आने वाली पीढ़ियों को तम्बाकू के दुष्प्रभावों से बचाया जा सके। उपायुक्त ने बताया कि जमशेदपुर को स्मोक फ्री जिला बनाने का अभियान 2014 से ही चलाया जा रहा है। आज लगभग 6 साल के बाद शहर को धूम्रपान मुक्त होने का गौरव प्राप्त हुआ है। इस पूरी मुहिम में सहयोगी संस्था सीड्स का बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

उन्होंंने कहा कि वर्ष 2003 में भारतीय संसद द्वारा पारित कोटपा अधिनियम के सफल क्रियान्वयन के कारण देश में तंबाकू नियंत्रण पर काफी हद तक काबू पाया गया है। तंबाकू नियंत्रण कार्यक्रम को अभियान के रूप में चलाए जाने के काफी अच्छे परिणाम प्राप्त हुए हैं। सार्वजनिक स्थलों यथा सिनेमा हॉल, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, सार्वजनिक सड़क, शिक्षण संस्थानों, सरकारी कार्यालयों सहित अन्य सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान करना एक दंडनीय अपराध है।

उपायुक्त ने तम्बाकू नियंत्रण हेतु जिले में गठित त्रिस्तरीय छापामार दस्ते के सभी सदस्यों को शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के अंदर अवस्थित सभी तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले दुकानदारों को हटवाते हुए नियमित रूप से छापामारी करने का निर्देश दिया।उपायुक्त ने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिए और अधिक प्रयास करना होगा। समाज के आम लोगों के बीच जाकर तंबाकू के सेवन के दुष्प्रभावों से अवगत करवाते हुए इसपर पूर्ण नियंत्रण लगाने हेतु कार्य करने होंगे।

लोगों को तंबाकू का सेवन नहीं करने हेतु प्रेरित एवं जागरुक करना होगा।  इस अवसर पर उप विकास आयुक्त परमेश्वर भगत, अपर उपायुक्त प्रदीप प्रसाद, अनुमंडल पदाधिकारी धालभूम नीतीश कुमार सिंह, डीसीएलआर रविन्द्र गागराई, तीनों नगर निकाय के विशेष/कार्यपालक पदाधिकारी, सिविल सर्जन, एसीएमओ, जिला जनसंपर्क पदाधिकारी, सीड्स के जिला कार्यक्रम प्रबंधक तथा अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!