पुलिस को अपना सूचना तंत्र मजबूत करना चाहिए : नवीन कुमार सिंंह

Share this:

जमशेदपुर, 20 दिसंबर : झारखंड के जोनल आईजी मानवाधिकार नवीन कुमार सिंह ने आज बताया कि उन्होंने जिला पुलिस की कार्यशैली का अध्ययन किया तथा पुलिसकर्मियों की समस्याएं भी सुनींं। जमशेदपुर पुलिस को ज्यादा सक्रिय बनाने के लिए उन्होंने कई टिप्स दिए।

उन्होंने शहर के छोटे-छोटे अपराधिक गुटों पर लगातार नजर बनाए रखने को कहा। नवीन कुमार सिंह ने प्रेस से कहा कि जमशेदपुर में कोई बड़ा अपराध माफिया नहीं है। यहां छोटे-छोटे अपराधिक गुट हैं जो अपनी सक्रियता दिखाने की कोशिश करते हैं और पुलिस उन पर कार्रवाई करती है। नवीन कुमार सिंह ने पेंडिंग केस का निष्पादन तेजी से करने की सलाह जमशेदपुर पुलिस को दी। उन्होंने साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पड़ोसी राज्यों को मिलाकर ज्वाइंट टास्क फोर्स बनाने का ऐलान किया।

उन्होंने बताया कि साइबर अपराध रोकना एक चुनौती है क्योंकि साइबर अपराधी किसी भी राज्य में बैठकर किसी दूसरे राज्य में अपराध कर गुजरते हैं। उन्होंने जानकारी दी कि इस साल 850 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी की गई है जो गत साल से अधिक है। जोनल आईजी नवीन कुमार सिंह ने बताया की डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस के आदेश से आर्म्स पेडलर्स तथा नशा के व्यापारियों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान अनेक लोग गिरफ्तार हुए हैं।

उन्होंने बताया की गिरफ्तार हुए अपराधियों से पुलिस को इस बात की जानकारी हासिल करनी चाहिए कि उन्होंने आर्म्स और नशा कहां से खरीदा और इसे कहां बेचने जा रहे थे। इस जानकारी को हासिल करने से इस अपराध पर पूरी तरह रोक लगाई जा सकती है। उन्होंने बताया कि पूर्वी सिंहभूम जिले में नक्सली गतिविधियां घटी हैं। मालूम हो नवीन कुमार सिंह पूर्वी सिंहभूम जिला के एसपी रह चुके हैं तथा अनुसंधान को साइंटिफिक तरीके से करने की शुरुआत इस जिले में उन्होंने ही की थी।

अपने जमशेदपुर प्रवास के दौरान उन्होंने पुलिस से अनुसंधान को साइंटिफिक बनाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इसके लिए पुलिस को हाईटेक बनाया जाएगा तथा सभी पुलिस ऑफिस कंप्यूटराइज होंगे। उन्होंने जमशेदपुर पुलिस को सलाह दी कि वह अपने सूचना तंत्र को मजबूत करें जिससे पुलिस की सक्रियता काफी बढ़ जाएगी। सूत्रों के मुताबिक नवीन कुमार सिंह जमशेदपुर के 3 दिनों के दौरे पर थे। यहां उन्होंने एसपी कार्यालय का निरीक्षण किया तथा पुलिस की कार्य क्षमता बढ़ाने के लिए अध्ययन किए एवं सुझाव दिया।

ReplyForward

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!