स्टेट बैंक ऑफ इंडिया साकची ब्रांच में कोविड-19 नियमों की उड़ाई जा रही धज्जियां

Share this:

कवि कुमार

जमशेदपुर, 15 नवंबर : आज हमारी टीम ने कुछ बैंकों का भ्रमण किया तो पाया कि अधिकांश बैंकों में कोविड-19 के लिए तय किए गए नियमों का घोर उल्लंघन किया जा रहा है। झारखंड सरकार के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह द्वारा जारी आदेश का बैंक खुलकर उल्लंघन कर रहे हैं। उक्त आदेश में लिखा गया था कि सार्वजनिक स्थल पर दो लोगों के बीच 6 फीट की दूरी जरूरी है। ऐसा नहीं करने वालों पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

एक काउंटर में लगी भीड़

परंतु जमशेदपुर के अनेक राष्ट्रीय बैंक झारखंड सरकार के इस आदेश को मानने को तैयार नहीं हैंं तथा पुलिस प्रशासन भी मुख्य सचिव के आदेश के तहत इन बैंकों पर कड़ी कार्यवाही नहीं कर रहा है। 

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के अंदर सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन

इस क्रम में आज स्टेट बैंक ऑफ इंडिया साकची शाखा, जो एसएनपी एरिया साकची में स्थित है, के कुछ फोटो इस न्यूज़ के साथ दिए जा रहे हैं। जिससे जमशेदपुर के बैंकों की अराजक स्थिति का पता चल सके। यह बैंक बड़े परिसर में है। प्रथम एवं द्वितीय तल दोनों में बैंक स्थित है। यहां जगह की कमी नहीं परंतु प्रबंधन की खामी के चलते कोरोना प्रोटोकॉल तोड़ा जा रहा है।

फॉर्म भरने के स्थान पर सटे हुए लोग

ग्राहकों को बैठकर फर्म भरने के लिए जो जगह दी गई है वह काफी छोटी है। यहां 5-6 कुर्सियां हैं परंतु काम करने वाले एक दर्जन लोग यहां चेहरे से चेहरा सटाकर जमे रहते हैं। वैसे में सोशल डिस्टेंसिंग की कल्पना करना ही बेकार है। 

दूसरे काउंटर में लगी भीड़

इसी तरह बैंक के अनेक काउंटरों में भीड़ जमी रहती है। यहां उपस्थित लोग सट सट कर खड़े रहते हैं। 90% लोग गलत तरीके से मास्क पहनते हैं। बैंक ऑफ इंडिया की इस शाखा का एटीएम तथा पासबुक अपडेट मशीन अक्सर खराब रहती है। जब हमारी टीम यहां पहुंची उस वक्त भी एटीएम और पासबुक अपडेट मशीन खराब थींं। बैंक के ग्राहकों से पूछने पर उन्होंने कहा कि अक्सर वे आते हैं तो ये मशीनें खराब मिलती हैं।

बंद एटीएम और पासबुक अपडेट मशीन

उनसे कहा जाता है कि सर्वर डाउन है परंतु 3-4 घंटा इंतजार करने के बाद भी ये मशीनें ठीक नहीं होतींं। आज तो एटीएम तथा पासबुक अपडेट मशीनों के चेंबर का शटर ही बंद था। बगल में महिला सुरक्षा कर्मी ग्राहकों को समझाने का असफल प्रयास कर रही थी। जिला प्रशासन द्वारा इस बैंक की भीड़ पर काबू करना जरूरी है क्योंकि ऐसा लगता है कि बैंक प्रबंधन को कोविड-19 की फिक्र नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!