रतन टाटा की कार का नंबर चुराने वाली वीआईपी महिला पकड़ी गई

Share this:

जमशेदपुर, 6 जनवरी : रतन टाटा की कार का नंबर लगाकर घूमने वाली एक महिला को पुलिस ने पकड़ा है। वह महिला अपनी इज्जत में इजाफा करने के कारण ऐसा कर रही थी। लोग इसकी कार को कुतूहल वश देखते थे तो उस महिला को आनंद मिलता था। अनेक लोग उस महिला को रतन टाटा का रिश्तेदार समझ रहे थे।

मुंबई पुलिस ने एक ऐसे आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया है, जो अपनी कार पर उद्योगपति रतन टाटा की कार का नंबर लगाए हुई थी। यह मामला तब उजागर हुआ जब उस महिला ने ट्रैफिक नियम तोड़ा तथा सीसीटीवी से देखकर उसकी कार के नंबर पर चालान भेजा गया। क्योंकि कार का नंबर रतन टाटा की कार का था इसलिए चालान भी रतन टाटा के पास गया। आरोपी महिला अपनी कार पर रतन टाटा की कार का नंबर इस्तेमाल कर रही थी। पुलिस के मुताबिक महिला का कहना है कि वह इस बात से अब तक अनजान थी कि उसकी कार पर लगा नंबर रतन टाटा की गाड़ी का नंबर है।

महिला ने खुद को निर्दोष बताते हुए पुलिस से कहां कि उसे किसी ज्योतिषी ने उसकी कार के लिए खास नंबर की नंबर प्लेट इस्तेमाल करने की सलाह दी थी। लिहाजा, महिला उस नंबर की प्लेट अपनी कार पर इस्तेमाल कर रही थी।मुंबई पुलिस के अफसरों ने बताया कि रात का मामला था और आरोपी महिला थी। इसलिए उसे फौरन पूछताछ के लिए थाना नहीं बुलाया गया। संभावना है कि पूछताछ के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया जाए। फिलहाल मुंबई पुलिस ने आरोपी महिला के खिलाफ आईपीसी की धारा 420 और 465 के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस के अनुसार रतन टाटा पर ट्रैफ़िक उल्लंघन के लिए जुर्माना लगाया गया था। जबकि उन्होंने ट्रैफिक के किसी नियम का उल्लंघन नहीं किया था। हाल ही में वर्ली में ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन के लिए रतन टाटा को ई-चालान भेजा गया था। इस पर टाटा समूह के अधिकारियों ने बताया कि उनकी कार ने कोई यातायात उल्लंघन नहीं किया। रतन टाटा से जुड़ा होने के चलते यह मामला गंभीर हो गया है। पुलिस ने उन सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू कर दिया जहां से ई चालान जारी किया गया था।

एक महिला एक कार कंपनी की मालिक बताई जाती है। संभवतः अपनी कार कंपनी का प्रचार करने के लिए ही उसने जानबूझकर रतन टाटा की कार के नंबर का इस्तेमाल किया होगा। उक्त महिला की कंपनी के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ने माटुंगा पुलिस स्टेशन में कार को जब्त कर लिया है। एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा, “आरोपी ने ज्योतिषीय अंक का लाभ लेने के लिए मूल नंबर प्लेट में फेरबदल करके अपनी कार पर नकली नंबर प्लेट का इस्तेमाल किया। रतन टाटा के स्वामित्व वाली कार को भेजे गए सभी ई चालान अब आरोपी को ट्रांसफर कर दिए गए हैं। वे लोगों से अपील करते हैं कि किसी भी स्थिति में फर्जी नंबर प्लेट का इस्तेमाल न करें।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!