प्रधान सेवक का खुला खत जनता के नाम

Share this:

मेरे प्यारे देशवासियों

नमस्ते 

मैं प्रधान सेवकनरेन्द्र मोदी


आप ने जब से मुझे यह दायित्व सौंपा छ: साल बीत चुके हैं। मैं कुछ बातें आप से साझा करना चाहता हूं इस अवसर पर। यह गद्दी कांटों की थी जब मैंने पी० एम० का शपथ लिया।पुरानी सरकार अपने दश साल के कार्य काल में करप्शन और घोटालों का पहाड़ छोड़ गयी थी। लगभग सभी सरकारी संगठन भयंकर घाटे में थे। विदेशी कर्जों का विशाल पहाड़ खड़ा था। 

देश ईरान : 48000, यूएई : 40000. भारतीय तेल कंपनियां :133000, आईएआर : 22000, बीएसएनएल :1500 कर्ज करोड़ में

सेना के पास बेसिक हथियार और बुलेट प्रूफ जैकेट नहीं थे। सेना के पास चार दिन के युद्ध के लिये भी साजो सामान नहीं थे। इतना ही नहीं हमारा इनटेलिजेन्स भी एक बिग फेल्योर था। पता नहीं कब और कहां बम धमाका हो जाये। जब मैंने चार्ज लिया तो देश की हालत यही थी।

मेरा प्रथम दायित्व था सिस्टम को दुरुस्त करना।भारतीयों के भाग्य से अन्तर्राष्ट्रीय मार्केट में तेल का दाम डाउन हो गया। इस घटे हुये दाम का फायदा आप को नहीं मिला क्योंकि देश का खजाना खाली था और देश कर्जे में डूबा था। फिर भी आप के प्यार और विश्वास से मुझे ताकत मिली। मुझे आने वाली पीढ़ी के लिये, उसके भविष्य के लिये यह पैसा चाहिये था।क्योंकि पिछली सरकार के भयानक आर्थिक घोटालों ने हमारे सामने बहुत गहरी खाईं खोद रखी थी।फ्यूल का रेट जब ₹120$/ बैरल था तो वे ₹ 85 प्रति लीटर हमें दे रहे थे।

यह कैसे संभव था? वे कर्ज लिये थे और जन रोष के कारण दाम नहीं बढ़ा रहे थे।उन्होंने 2.5 लाख करोड़ का कर्ज ले रखा था। फलत: ₹ 25000 करोड़ प्रति वर्ष का व्याज देना पड़ता था।हम भारी कर्जे में थे और हमें तेल पाने के लिये उधारी चुकानी थी। यही कारण था कि केन्द्र ने तेल पर टैक्स वसूला यद्यपि इसमें साझेदारी प्रान्तों की भी थी।आज हम फख्र से कह सकते हैं कि ₹ ढाई लाख करोड़ का कर्जा मय सूद के दिया जा चुका है। रेलवे का कर्जा भी दिया जा चुका है।

पिछली सरकार के सारे अधूरे प्रोजेक्ट पूरे हो चुके हैं। रेलों का विद्युतीकरण किया जा चुका है। 18500 गांवों का विद्युतीकरण किया जा चुका है। 5 करोड़ फ्री गैस कनेक्शन गरीबों को दिये जा चुके हैं। 40000 किलोमीटर सड़कें बनाई जा चुकी हैं। 1.5 लाख करोड़ रुपये मुद्रा लोन के रूप में नवयुवक उद्यमियों को दिये जा चुके हैं।  आयुष्मान भारत योजना 1.5 लाख करोड़ की दी जा चुकी है। यह 50 करोड़ लोगों के लिये है।

सभी अधुनातन हथियार और बुलेट प्रूफ जैकेट सैनिकों को दिये जा चुके हैं।यह पैसा कहां से आया?निसंदेह यह आप के त्याग के बदौलत है। आप को इन कार्यों का श्रेय जाता है।अगर यह टैक्स तेल से नहीं मिलता तो आप सभी पर यह टैक्स पड़ता।पर यह वाहन स्वामियों पर डाला गया।एक बात और ।अगर आप का घर कर्जे में डूबा है तो क्या आप पैसा मस्ती में उड़ायेंगे? या पहले कर्जा उतारेंगे?अगर मौज मस्ती में उड़ायेंगे तो परिवार का भविष्य कैसा होगा? 

विपक्ष के नौटंकी और कपट चाल में मत फंसिये। आप राष्ट्र वादी नागरिक के तरह देश के निर्माण में हमारा साथ दीजिये।ये एजेन्डा धारी लोग झूठा प्रोपेगंडा फैलाकर आप को बहकाकर केवल कुर्सी के फिराक में हैं।कृपया सोचिये
 आप का  नरेन्द्र मोदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!